Saturday, February 4, 2023
No menu items!
Google search engine
Homeआपदाजोशीमठ के लिए राज्य सरकार तैयार कर रही है पूरा ब्लूप्रिंट

जोशीमठ के लिए राज्य सरकार तैयार कर रही है पूरा ब्लूप्रिंट

देहरादून/चमोली: जोशीमठ आपदा (joshimath disaster) के बाद राज्य सरकार अपनी तरफ से करोड़ों रुपए जोशीमठ पीड़ितों के लिए जारी कर रही है. साथ ही जोशीमठ में राहत और बचाव कार्य भी युद्धस्तर पर (Relief work in full swing in Joshimath) चलाया जा रहा है. इतना ही नहीं जोशीमठ के लिए राज्य सरकार पूरा ब्लूप्रिंट तैयार (Joshimath blueprint ready) कर रही है. इसके तहत जोशीमठ का पुनर्विकास अब केदारनाथ (Joshimath Redevelopment on lines of Kedarnath) की तर्ज पर किया जाएगा. राज्य आपदा प्रबंधन सचिव रंजीत सिन्हा ने बताया जिस तरीके से केदारनाथ में पुनर्निर्माण कार्य किये गये हैं, उसी तरह से जोशीमठ में भी पुनर्निर्माण के काम किये जाएंगे.आपदा प्रबंधन सचिव रंजीत सिन्हा (State Disaster Management Secretary Ranjit Sinha) ने बताया सीएम ने निर्देश दिए हैं कि पहाड़ में स्थित सभी शहरों में वैज्ञानिक जांच कराई जाए. जिस कड़ी में भविष्य में कदम उठाये जाएंगे. आपदा प्रबंधन सचिव रंजीत सिन्हा ने कहा अभी सरकार का फोकस जोशीमठ पर है. सरकार जोशीमठ मामले को लेकर गंभीरता से काम रही है.

जोशीमठ के हालात पर सीएम धामी (CM Dhami on the condition of Joshimath) पर लगातार नजर बनाए हुए हैं. सीएम धामी ने बताया जोशीमठ में जिन घरों में दरारें (Cracks in 800 houses of Joshimath) आ गई हैं, उन्हें खाली करा लिया गया है. सरकार की तरफ से 1.5 लाख की अनुग्रह राशि प्रदान की जा रही है. जोशीमठ में सभी निर्माण गतिविधियों को रोक दिया गया है और हम लगातार स्थिति की निगरानी कर रहे हैं.

वहीं, जोशीमठ में दरार वाले मकानों की संख्या बढ़कर 826 हो गई है. जिनमें से 165 असुरक्षित क्षेत्र में हैं. अब तक 233 परिवारों को अस्थायी राहत केंद्रों में स्थानांतरित किया गया है. जबकि औली रोपवे के पास और भू-धंसाव प्रभावित जोशीमठ के अन्य क्षेत्रों में चौड़ी दरारें दिखाई दी. रविवार को जोशीमठ में दो और होटल खतरनाक तरीके से एक-दूसरे की ओर झुक गए हैं. अभी तक असुरक्षित घोषित किए गए दो होटल मलारी इन और माउंट व्यू को ध्वस्त करने की प्रक्रिया अभी भी चल रही है.

सम्बंधित खबरें
- Advertisment -spot_imgspot_img

ताजा खबरें