Thursday, May 23, 2024
No menu items!
Google search engine
Homeउत्तराखंडबद्रीनाथ धाम के आस-पास नहीं पढ़ी जाएगी नमाज! विभिन्न संगठनों के साथ...

बद्रीनाथ धाम के आस-पास नहीं पढ़ी जाएगी नमाज! विभिन्न संगठनों के साथ पुलिस ने की बैठक,बनी सहमति

उत्तराखंड बद्रीनाथ धाम में ईद त्यौहार के दौरान नमाज को लेकर हिंदू संगठनों के साथ व्यापारिक व पंडा तीर्थ पुरोहित ने बैठक कर एतराज जताया है। हालांकि पुलिस द्वारा आयोजित बैठक में बद्रीनाथ धाम में महायोजना व अन्य कार्यों में कार्य कर रहे ठेकेदार व मजदूरों ने साफ किया कि मुस्लिम समुदाय के लोग त्योहार मनाने को लेकर अपने घर या जोशीमठ जा रहे हैं। बद्रीनाथ धाम में कोरोना लॉकडाउन के तहत मजदूरों द्वारा एक सरकारी निर्माणाधीन भवन में कथित रुप में नमाज अदा किए जाने की बात सामने आई थी तब प्रशासन ने घटना से इनकार किया था और बताया था कि ये मजदूर इस भवन में अस्थायी रूप में रहकर बद्रीनाथ महायोजना के कार्यों में मजदूरी करते हैं। इस बार बद्रीनाथ धाम में पंडा पंचायत, व्यापारियों, तीर्थ पुरोहितों ने बैठक कर कोतवाली पुलिस को कहा कि बद्रीनाथ धाम सहित आस पास के क्षेत्र में नमाज पढ़ने की इजाजत नहीं दी जानी चाहिए। पुलिस ने भी मामले की गंभीरता को देखते हुए बद्रीनाथ महायोजना में लगे ठेकेदारों, कंपनियों के अधिकारियों पंडा पंचायतों, व्यापारियों की बैठक की है। बैठक में पंडा पुरोहित प्रवीण ध्यानी ने कहा कि कई बार मुस्लिमों द्वारा बद्रीनाथ धाम में गुपचुप तरीके से नमाज अदा करने की बातें सामने आई थी।

व्यापार सभा पंडा पुरोहित आदि संगठनों ने बैठक में बद्रीनाथ धाम क्षेत्र में ईद की नमाज अदा न करने की मांग की थी, जिस पर बैठक कर शांतिपूर्ण समाधान हुआ है। पूरे मामले को उच्चाधिकारियों को बता दिया गया है। बद्रीनाथ धाम में कार्य करने वाले मजदूर व अन्य लोग ईद के त्यौहार पर घर लौट चुके हैं। वैसे भी धाम में इस प्रकार की गतिविधियों की इजाजत नहीं है। प्रवीन ध्यानी ने कहा कि धाम में महायोजना के कार्यों में भारी संख्या में बाहरी लोग हैं। ऐसे में प्रशासन को सुनिश्चित करना है कि इस क्षेत्र में किसी प्रकार की विवाद की स्थिति न हो। पुलिस द्वारा आयोजित बैठक में ठेकेदारों, गैर हिंदुओं ने कहा कि अधिकतर मजदूर ईद मनाने के लिए अपने घरों को लौट गए हैं, जो यहां मौजूद भी है वे जोशीमठ क्षेत्र में जा रहे हैं। ठेकेदारों कंपनियों के अधिकारियों व गैर हिंदुओं ने भी पुलिस प्रशासन की बैठक रजिस्टर में सहमति दर्ज करते हुए कहा कि वे त्यौहार मनाने के लिए वापस लौट रहे हैं तथा इस धार्मिक क्षेत्र की गरिमा को किसी प्रकार से ठेस नहीं पहुंचाएंगे। बैठक में यह भी सहमति बनी कि जोशीमठ से आगे कहीं भी बद्रीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित पड़ावों पर नमाज नहीं पढ़ी जाएगी।

सम्बंधित खबरें
- Advertisment -spot_imgspot_img

ताजा खबरें