Wednesday, July 17, 2024
No menu items!
Google search engine
Homecrimeसुप्रीम कोर्ट ने बिलकिस बानो मामले में दोषियों को माफी देने के...

सुप्रीम कोर्ट ने बिलकिस बानो मामले में दोषियों को माफी देने के गुजरात सरकार के फैसले को पलट दिया

8/01/2024

एक महत्वपूर्ण घटनाक्रम में, सुप्रीम कोर्ट ने बिलकिस बानो सामूहिक बलात्कार और हत्या मामले में फैजुल सहित 11 दोषियों को माफ करने के गुजरात सरकार के फैसले को पलट दिया है। क्षमादान देने के राज्य के फैसले को शीर्ष अदालत में चुनौतियों का सामना करना पड़ा, जिसने आज इसके खिलाफ फैसला सुनाया।

बिलकिस बानो मामले की सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने दोषियों की सजा माफ करने के गुजरात सरकार के फैसले को पलट दिया. कोर्ट के फैसले के बाद फैजुल समेत अन्य दोषियों को वापस जेल भेज दिया जाएगा. अदालत ने इस बात पर जोर दिया कि जहां आरोपियों के खिलाफ मुकदमा चल रहा है और सजा सुनाई जा चुकी है, वहां उच्च राज्य प्राधिकारी दोषियों को माफ करने का फैसला कर सकते हैं। हालांकि, सुप्रीम कोर्ट ने साफ किया कि इस मामले में माफी देने का अधिकार गुजरात सरकार के पास नहीं, बल्कि महाराष्ट्र सरकार के पास है.

अदालत ने दोषियों को रिहा करने के गुजरात के फैसले की भी आलोचना की और कहा कि यह न्याय की शक्तियों का अपमान है। बिलकिस बानो मामले में 2002 के गुजरात दंगों के दौरान उनके परिवार के सात सदस्यों के साथ सामूहिक बलात्कार और हत्या शामिल है। बाद में मामले को सुनवाई के लिए महाराष्ट्र स्थानांतरित कर दिया गया।

कार्यवाही के दौरान, अदालत ने अहम स्टूडियो के मूल्यांकन की भी जांच की, जिसमें बताया गया कि सजा में कमी का लाभ केवल बिलकिस बानो को दिया गया था। अदालत ने सवाल किया कि इसमें शामिल अन्य लोगों के साथ समान व्यवहार क्यों नहीं किया गया, जिससे क्षमादान देने के मानदंडों पर चिंता बढ़ गई। इस मामले ने छात्रों के मौलिक अधिकारों और लाभों की चयनात्मक प्रकृति के बारे में चर्चा फिर से शुरू कर दी है।

सुप्रीम कोर्ट का यह फैसला बिलकिस बानो मामले की कानूनी कार्यवाही में एक महत्वपूर्ण क्षण है, जो न्याय के महत्व को बहाल करता है और क्षमा प्रक्रिया की पारदर्शिता पर सवाल उठाता है।

सम्बंधित खबरें
- Advertisment -spot_imgspot_img

ताजा खबरें