Saturday, February 24, 2024
No menu items!
Google search engine
Homeकानूनअंकिता हत्याकांड में गवाह ने दर्ज कराये बयान, अंकिता ने आखिर क्यों...

अंकिता हत्याकांड में गवाह ने दर्ज कराये बयान, अंकिता ने आखिर क्यों मारा था पुलकित को थप्पड़?

कोटद्वार: अंकिता हत्याकांड में बृहस्पतिवार को एक गवाह ने कोटद्वार स्थित अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश (एडीजे) रीना नेगी की अदालत में बयान दर्ज कराए। दूसरा गवाह अदालत में हाजिर नहीं हुआ। अब गवाही के लिए अगली तिथि 17 मई निर्धारित की गई है। जिसमें गवाही के लिए तीन गवाहों को समन भेजा जा रहा है। गवाही और प्रति परीक्षा के दौरान तीनों हत्यारोपी पुलकित आर्य, सौरभ भास्कर व अंकित गुप्ता अदालत में मौजूद रहे।

अंकिता हत्याकांड की पैरवी के लिए नियुक्त विशेष लोक अभियोजक डीजीसी जितेंद्र सिंह रावत ने बताया कि बृहस्पतिवार की गवाही के लिए मुख्य आरोपी पुलकित आर्य के रिजॉर्ट में हाउस कीपिंग का काम करने वाले विवेक आर्य और आयुष को समन भेजा गया था, लेकिन अदालत में केवल विवेक ही हाजिर हुआ। उसने पुलिस व एसआईटी को दिए बयानों को अदालत में दोहराया।

विवेक आर्य ने अदालत में बताया कि वह केवल 10वीं कक्षा तक पढ़ा है। उसने वनंत्रा रिजार्ट में हाउस कीपिंग की नौकरी के लिए आवेदन किया था। जिसमें उसे साढ़े दस हजार रुपये में नौकरी पर रख लिया गया। उसने रिजॉर्ट में 09 सितंबर को नौकरी ज्वाइन की। अगले दिन उसने साथ के अन्य लोगों से सुना कि अंकिता के साथ रिजॉर्ट में मारपीट हुई थी।

11 सितंबर को अंकिता ने उसे बताया कि पुलकित आर्य और सौरभ ने ड्रिंक करने के बाद अश्लील हरकत करने की कोशिश की। जिस पर अंकिता ने पुलकित आर्य को थप्पड़ मारने की बात बताई। अंकिता ने यह भी बताया कि इससे पहले दो सितंबर को बर्थडे पार्टी के दिन सौरभ भास्कर ने उसे रुम में ले जाकर ड्रिंक कराकर बदतमीजी की और अश्लील हरकत करने की कोशिश की।

विवेक आर्य ने अदालत में बताया कि 14 सितंबर को रिसॉर्ट में अंकिता का दोस्त पुष्पदीप भी आया था। वह यहां 16 सितंबर तक रहा। बताया कि उसने भी भी रिजॉर्ट में 16 सितंबर तक नौकरी की। इसके बाद वह अन्यत्र चला गया। बताया कि अगले दिन 17 सितंबर अंकिता का उसे फोन आया था कि रिजॉर्ट में कोई चीफ गेस्ट आने वाला है, जिसे एक्स्ट्रा सर्विस देने के लिए पुलकित आर्य उसे मनाने में लगा है।

यह भी बताया कि अंकित ने उसके साथ धक्का मुक्की की है। बताया कि 18 सितंबर को अंकिता मैडम का उसे फिर फोन आया। फोन पर वह रो रही थी। रोते हुए उसने उसे यहां से ले जाने का आग्रह किया। उस वक्त वह गाड़ी चला रहा था। उसने बाद में बात करने की बात कहते हुए फोन काट दिया। शाम को करीब 7:00 बजे उसने अंकिता मैडम को फोन लगाया था, लेकिन उनका फोन नहीं लगा। उसके बाद अंकिता मैडम से कोई बात नहीं हुई।

गवाही में विवेक ने बताया कि रिसॉर्ट में सीसीटीवी. कैमरे लगे थे, लेकिन उसे पता नहीं कि वे चलते थे या नहीं। यह भी बताया कि 16 सितंबर को रिजॉर्ट में 16 से 17 वीआईपी गेस्ट आए थे। वे वहां पर करीब एक घंटा रूके। उनके पास सूटकेश व गन थी। एक घंटा रुकने के बाद अन्य लोग चले गए, जबकि 2 से 3 गेस्ट ही रिजॉर्ट में रुके।

अभियोजन पक्ष की ओर से गवाही पूरे होने के बाद बचाव पक्ष के अधिवक्ता अनुज पुंडीर, अमित सजवान एवं रजत दुआ ने गवाह से प्रति परीक्षा की।डीजीसी जितेंद्र सिंह रावत ने बताया कि अब अदालत में अगली गवाही 17 मई को होगी। जिसके लिए तीन गवाहों को समन भेजा जा रहा है। अंकिता हत्याकांड एसआईटी की ओर से 97 गवाह बनाए गए हैं। जिसमें अब तक 8 लोगों की गवाही हो चुकी है।

सम्बंधित खबरें
- Advertisment -spot_imgspot_img

ताजा खबरें