Wednesday, April 24, 2024
No menu items!
Google search engine
HomeIndiaजानिए भारत के 11वे राष्ट्रपति अब्दुल कलाम के बारे में....

जानिए भारत के 11वे राष्ट्रपति अब्दुल कलाम के बारे में….

डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम, पूरा नाम अवुल पाकिर जैनुलाब्दीन अब्दुल कलाम, एक प्रसिद्ध भारतीय वैज्ञानिक और भारत के 11वें राष्ट्रपति थे। उनका जन्म 15 अक्टूबर, 1931 को तमिलनाडु के रामेश्वरम में हुआ था और 27 जुलाई, 2015 को उनका निधन हो गया। डॉ. कलाम के जीवन और कार्य ने भारत और दुनिया पर एक अमिट छाप छोड़ी।



कलाम का प्रारंभिक जीवन विनम्रता और शिक्षा के प्रति समर्पण से चिह्नित था। वह एक साधारण पृष्ठभूमि से आए थे और अपनी युवावस्था में उन्हें कई चुनौतियों का सामना करना पड़ा। हालाँकि, सीखने के प्रति उनके जुनून और पायलट बनने के उनके सपने ने उन्हें मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग में डिग्री हासिल करने के लिए प्रेरित किया। अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद, वह 1962 में भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) में शामिल हो गए।

भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम में डॉ. कलाम का सबसे महत्वपूर्ण योगदान सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल (एसएलवी) पर उनका काम था। रॉकेटरी में उनकी विशेषज्ञता ने 1980 में भारत के पहले उपग्रह, रोहिणी-1 के सफल प्रक्षेपण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इस उपलब्धि ने भारत के लिए एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर साबित किया और देश को अंतरिक्ष अन्वेषण के क्षेत्र में एक सक्षम खिलाड़ी के रूप में स्थापित किया।

डॉ. कलाम की प्रसिद्धि अंतरिक्ष क्षेत्र में उनके काम से कहीं आगे तक फैली हुई थी। वह एक दूरदर्शी वैज्ञानिक और स्वदेशी प्रौद्योगिकी के विकास के प्रबल समर्थक थे। उन्होंने भारत के एकीकृत निर्देशित मिसाइल विकास कार्यक्रम (आईजीएमडीपी) में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, जिसके कारण अग्नि और पृथ्वी मिसाइलों सहित कई मिसाइल प्रणालियों का सफल विकास हुआ। इन उपलब्धियों ने भारत की रक्षा क्षमताओं को मजबूत किया और वैश्विक मंच पर इसके रणनीतिक महत्व को बढ़ाया।

डॉ. कलाम का समर्पण और नेतृत्व गुण वैज्ञानिक समुदाय तक ही सीमित नहीं थे। उन्हें भारत के युवाओं की क्षमता पर अटूट विश्वास था और वे अक्सर छात्रों को प्रेरित और उत्साहित करने के लिए उनके साथ बातचीत करते थे। “विंग्स ऑफ फायर” और “इग्नाइटेड माइंड्स” सहित उनकी पुस्तकों में उनके जीवन की यात्रा और विकसित भारत के लिए उनके दृष्टिकोण को दर्शाया गया है। ये किताबें बेस्टसेलर बन गईं और अनगिनत युवा दिमागों को विज्ञान और प्रौद्योगिकी में करियर बनाने के लिए प्रेरित किया।

2002 में, डॉ. कलाम ने अपना सबसे बड़ा सपना पूरा किया जब उन्हें भारत के राष्ट्रपति के रूप में चुना गया। उन्होंने देश के पहले वैज्ञानिक-राष्ट्रपति के रूप में कार्य किया और सर्वोच्च पद पर एक अद्वितीय दृष्टिकोण पेश किया। अपने कार्यकाल के दौरान वे देश को विकसित और आत्मनिर्भर भारत के अपने दृष्टिकोण से प्रेरित करते रहे।

डॉ. कलाम का राष्ट्रपति कार्यकाल, विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों में शिक्षा के प्रति उनकी प्रतिबद्धता से चिह्नित था। उन्होंने देश में हर बच्चे को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने की वकालत की और अक्सर भारत के विकास को आगे बढ़ाने में नवाचार और अनुसंधान के महत्व के बारे में बात की।



दुखद बात यह है कि डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम का 27 जुलाई 2015 को भारतीय प्रबंधन संस्थान शिलांग में व्याख्यान देते समय निधन हो गया। उनका आकस्मिक निधन भारत और दुनिया के लिए एक गहरी क्षति थी। उन्होंने वैज्ञानिक उत्कृष्टता, देशभक्ति और अपने साथी नागरिकों के कल्याण के प्रति गहरी प्रतिबद्धता की विरासत छोड़ी।

डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम एक उल्लेखनीय वैज्ञानिक, दूरदर्शी नेता और भारत के प्रिय व्यक्ति थे। उनकी जीवन कहानी लाखों लोगों के लिए प्रेरणा का काम करती है, और विज्ञान और शिक्षा में उनका योगदान देश के भविष्य को आकार देता है। भारत की उन्नति के प्रति उनका समर्पण और युवाओं की शक्ति में उनका विश्वास उन्हें आने वाली पीढ़ियों के लिए एक शाश्वत आदर्श बनाता है।

सम्बंधित खबरें
- Advertisment -spot_imgspot_img

ताजा खबरें