Tuesday, April 23, 2024
No menu items!
Google search engine
Homeराजनीतिउत्तराखंड में सरकारी जमीनों से अतिक्रमण को लेकर सीएम धामी ने अख्तियार...

उत्तराखंड में सरकारी जमीनों से अतिक्रमण को लेकर सीएम धामी ने अख्तियार किया सख्त रुख, हरिद्वार जिला प्रशासन ध्वस्त किया 20 से ज्यादा अवैध निर्माण

हरिद्वार (उत्तराखंड): उत्तराखंड में सरकारी जमीनों से अतिक्रमण को लेकर खुद सीएम धामी सख्त रुख अख्तियार कर चुके हैं. यही वजह है कि हरिद्वार में सरकारी संपत्तियों पर बने अवैध धार्मिक स्थलों को हटाने की कार्रवाई जारी है. हरिद्वार जिला प्रशासन की ओर से बीते एक हफ्ते के भीतर 20 से ज्यादा अवैध निर्माण पर बुलडोजर चलाया जा चुका है. आज भी हरिद्वार में आर्य नगर चौक पर स्थित चंदन पीर मजार को भारी सुरक्षा बल के बीच हटाया गया. इस दौरान कुछ लोगों ने जिला प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी भी की, लेकिन जिला प्रशासन ने कोर्ट का हवाला देकर उन्हें वहां से हटा दिया.दरअसल, हरिद्वार के ज्वालापुर कोतवाली क्षेत्र के आर्य नगर चौक पर स्थित चंदन पीर मजार को जिला प्रशासन ने भारी पुलिस बल की मौजूदगी में ध्वस्त किया. हरिद्वार एसडीएम पूरण सिंह राणा ने बताया कि हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर यह कार्रवाई की जा रही है. कोर्ट के आदेशानुसार आम लोगों के मुख्य मार्ग को बाधित करने वाले किसी भी ऐसे अवैध धार्मिक निर्माण को 24 घंटे के भीतर ध्वस्त किया जाना है. ऐसे में आवागमन में बाधा उत्पन्न कर रहे हैं, उन धार्मिक स्थलों को हटाया जा रहा है.

सड़कों पर उतरे लोग, पुलिस से तीखी नोकझोंकः वहीं, मजार को हटाते वक्त कई लोग नारेबाजी कर सड़क पर उतर गए. प्रशासन की कार्रवाई के विरोध में लोग सड़क पर बैठ गए. इस दौरान उनकी पुलिसकर्मियों के साथ तीखी नोकझोंक हुई. जिससे माहौल काफी तनावपूर्ण हो गया. हालांकि, पुलिस बल और प्रशासन के आगे उनकी एक नहीं चली. आखिरकार भारी विरोध के बीच अवैध मजार पर बुलडोजर गरजा और ध्वस्त कर दिया.एसडीएम पूरण सिंह राणा ने कहा कि जो लोग जिला प्रशासन की इस कार्रवाई का विरोध कर रहे हैं, उनको समझा दिया गया है. उन्हें पूरा विश्वास है कि कोई भी शहर की शांति व्यवस्था को भंग नहीं करेगा. साथ ही उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के आदेश और जिलाधिकारी के निर्देशन में अवैध निर्माणों पर कार्रवाई लगातार जारी रहेगी.

गौर हो कि उत्तराखंड में लैंड जिहाद का मामला सुर्खियों में है. इसके अलावा सरकारी संपत्तियों और वन भूमि पर अवैध धार्मिक स्थल बनाने के मामले सामने आ रहे हैं. जिस पर धामी सरकार गंभीर नजर आ रही है. यही वजह है कि सरकारी भूमि से अतिक्रमण को हटाने के लिए कार्रवाई को अंजाम दिया जा रहा है. कॉर्बेट नेशनल पार्क में अवैध मजार हो या अन्य जगहों पर उनके खिलाफ कार्रवाई की जा रही है.

सम्बंधित खबरें
- Advertisment -spot_imgspot_img

ताजा खबरें