Friday, September 29, 2023
No menu items!
Google search engine
HomeIndiaजानिए साक्षरता के महत्व के बारे में..

जानिए साक्षरता के महत्व के बारे में..

साक्षरता के महत्व के बारे में जागरूकता बढ़ाने और मौलिक मानव अधिकार के रूप में साक्षरता को बढ़ावा देने के लिए हर साल 8 सितंबर को अंतर्राष्ट्रीय साक्षरता दिवस मनाया जाता है। इस दिन की स्थापना पहली बार 1965 में संयुक्त राष्ट्र शैक्षिक, वैज्ञानिक और सांस्कृतिक संगठन (यूनेस्को) द्वारा की गई थी और तब से यह एक वैश्विक कार्यक्रम बन गया है, जो व्यक्तिगत और सामाजिक विकास को बढ़ावा देने में साक्षरता के महत्व पर प्रकाश डालता है।



साक्षरता जानकारी को पढ़ने, लिखने और समझने की क्षमता है। यह केवल एक कौशल नहीं है बल्कि ज्ञान, शिक्षा और सशक्तिकरण का प्रवेश द्वार है। अंतर्राष्ट्रीय साक्षरता दिवस पर, साक्षरता की परिवर्तनकारी शक्ति पर जोर देने के लिए दुनिया भर में विभिन्न गतिविधियाँ और पहल आयोजित की जाती हैं।

इस दिन का एक प्रमुख उद्देश्य निरक्षरता के मुद्दे को संबोधित करना है, जो दुनिया भर में लाखों लोगों को प्रभावित करता है। निरक्षरता गरीबी को कायम रख सकती है, स्वास्थ्य देखभाल तक पहुंच को सीमित कर सकती है और आर्थिक और सामाजिक प्रगति में बाधा डाल सकती है। इसलिए, अंतर्राष्ट्रीय साक्षरता दिवस एक अनुस्मारक के रूप में कार्य करता है कि हर किसी को, उम्र या पृष्ठभूमि की परवाह किए बिना, बुनियादी साक्षरता कौशल हासिल करने का अवसर मिलना चाहिए।

कई देशों में, सरकारें, गैर-सरकारी संगठन और शैक्षणिक संस्थान इस अवसर का उपयोग साक्षरता अभियान शुरू करने, वयस्क शिक्षा कार्यक्रम पेश करने और वंचित समुदायों को किताबें वितरित करने के लिए करते हैं। इन प्रयासों का उद्देश्य निरक्षरता दर को कम करना और आजीवन सीखने को बढ़ावा देना है।

डिजिटल युग ने साक्षरता में नए आयाम लाए हैं, डिजिटल साक्षरता और डिजिटल दुनिया में जानकारी को नेविगेट करने और समझने की क्षमता पर जोर दिया गया है। जैसे-जैसे प्रौद्योगिकी हमारे जीवन को आकार दे रही है, डिजिटल रूप से साक्षर होना पारंपरिक साक्षरता कौशल जितना ही महत्वपूर्ण हो गया है।

अंतर्राष्ट्रीय साक्षरता दिवस जीवन और समाज को बदलने में साक्षरता की शक्ति का जश्न मनाने का दिन है। यह निरक्षरता उन्मूलन और सभी के लिए गुणवत्तापूर्ण शिक्षा तक पहुंच को बढ़ावा देने के लिए चल रहे वैश्विक प्रयासों की याद दिलाता है। साक्षरता का मतलब सिर्फ पढ़ना और लिखना नहीं है; यह एक मौलिक मानवाधिकार है जो दुनिया भर में व्यक्तियों और समुदायों के लिए ज्ञान, अवसरों और उज्जवल भविष्य के द्वार खोलता है।

सम्बंधित खबरें
- Advertisment -spot_imgspot_img

ताजा खबरें